दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना उत्तराखंड 2019| Uttarakhand Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana in hindi

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना उत्तराखंड 2019-20 (Uttarakhand Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana in hindi)  [Application Form, Eligibility Criteria, Documents List]

उत्तराखंड सरकार ने छोटे किसानों के लिए दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना नाम से एक योजना लॉंच की है. इस योजना के तहत किसानों को सरल शर्तो पर ऋण प्रदान किया जाएगा और इस ऋण पर किसानों को बहुत कम ब्याज देना होगा. इस योजना के द्वारा दी जाने वाली सहायता से किसान पहाड़ी क्षेत्रों में अधिक आय ले पाएंगे और साथ ही इसके साथ उस क्षेत्र में खेती को बढ़ावा भी मिलेगा.

किसान कल्याण योजना से सहायता लेकर किसान अपने उपर चढ़ने वाले कर्ज से भी मुक्ति पा सकेंगे और वे अपनी आजीविका चलाने में भी सक्षम बनेंगे.

Uttarakhand Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana

लॉंच डीटेल (Launch Detail) –

योजना का नाम दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना
किस राज्य में लॉंच की गई उत्तराखंड
किसके द्वारा लॉंच की गई प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
घोषणा की दिनांक 9 नवंबर 2017
लॉंच दिनांक (शुरू हुई) 14 फरवरी 2019
लाभार्थी लघु, छोटे एवं सीमांत किसान

 

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना उत्तराखंड मुख्य बिन्दु (Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana Key Features, Loan, Interest rate) –

  • किसान कल्याण योजना का मुख्य उद्देश्य प्रदेश के किसानों को स्थायित्व प्रदान करना और आने वाले साल दो हजार बावीस तक किसानों की आय को दुगुना करना है.
  • दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना का लाभ लेने वाले किसानों को लगभग 1 लाख रुपयों तक का ऋण दिया जा सकेगा और इस राशि पर केवल 2 प्रतिशत ब्याज लगाया जाएगा, जो कि न के बराबर होगा.
  • इस ऋण की राशि को किसान 3 वर्षो में चुका सकेंगे, परंतु एक वर्ष के बाद इस ऋण का भुक्तान शुरू न करने पर किसान को चक्रवर्ती ब्याज दर से ब्याज का भुगतान करना होगा.
  • इस योजना से राज्य के किसानों को मदद तो मिलेगी ही साथ ही साथ पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़ अन्यत्र पलायन कर रहे किसानों को रोकने में भी सरकार सफल होगी.
  • दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना के तहत किसानों को सॉइल हेल्थ कार्ड प्रदान किए जाएंगे, जिससे कि वे मिट्टी की उर्वरक शक्ति का पता लगाकर उस हिसाब से उर्वरक, खाद और कीटनाशकों का उपयोग कर सकेंगे.

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना के लिए पात्रता (Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana Eligibility Criteria) –

  • स्थानीय निवासी – यह लाभ लेने के लिए किसान का उत्तराखंड राज्य का निवासी होना आवश्यक है. इसलिए उसके पास यह दस्तावेज़ होना भी अनिवार्य है.
  • पारिवारिक आय – इस योजना के लिए केवल लघु, छोटे और सीमांत किसान ही आवेदन कर सकते है. इसके अलावा किसान के परिवार का कोई भी सदस्य सरकारी कर्मचारी नही होना चाहिए वरना वह इस योजना का लाभ नही ले पाएगा.

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना आवश्यक दस्तावेज़ (Document Required) –

  • स्थानीय निवासी प्रमाण पत्र – यह साबित करने के लिए कि आप उत्तराखंड के नागरिक है आपके पास यह दस्तावेज़ होना आवश्यक है.
  • व्यक्तिगत जानकारी – आपकी व्यक्तिगत जानकारी देने के लिए आपको अपना आधार कार्ड, राशन कार्ड या वोटर आईडी कार्ड देना पड़ सकता है, इससे आपकि व्यक्तिगत जानकारी क्लियर होती है.
  • आय संबंधित जानकारी – किसान इस योजना का लाभ लेने योग्य है या नहीं इसके लिए उसकी आय की जानकारी होना आवश्यक है. इसके लिए किसान को अपना आय प्रमाण पत्र या आय से संबंधित अन्य दस्तावेज़ देने होंगे.
  • बैंक डीटेल – इस योजना के द्वारा मिलने वाला पैसा डाइरैक्ट लाभार्थी के अकाउंट में ट्रांसफर किया जाएगा इसलिए किसान को अपनी बैंक अकाउंट डीटेल देना अनिवार्य है.

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना उत्तराखंड आवेदन फॉर्म प्रक्रिया पंजीकरण (Deendayal Upadhyay Kisan Kalyan Yojana Application Form Process Detail) –

अभी हाल ही में इस योजना का अनावरण हुआ है, जिससे आवेदन की पूरी जानकारी हम तक नहीं आई है. इस योजना में आवेदन से संबंधित कोई भी जानकारी प्राप्त होते ही, हम अपनी साईट में अपडेट कर देंगें. आप हमारे इस पेज को सब्सक्राइब कर लें, जिससे समय समय में सारी जानकारी आप तक पहुँच सके.

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना से पहाड़ी क्षेत्रों के किसान सक्षम बनेंगे और उनकी आय में भी वृद्धि होगी. इसी के साथ ही इस योजना से ग्रामीण अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी और किसानों को उच्च ब्याज दर पर मिलने वाले ऋण के बोझ से भी निजात मिलेगा.

Other links –

Leave a Comment