ग्राम समृद्धि योजना 2019 | Gram Samridhi Yojana in hindi 2019

ग्राम समृद्धि योजना 2019-20 (Gram Samridhi Yojana in hindi for Food Processing Sector) [Eligibility Criteria, Application Form]

भारत के खाद्य विभाग मंत्रालय द्वारा ग्राम समृद्धि योजना की शुरुवात की जा रही है. यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में केंद्रित असंगठित खाद्य क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए शुरू हुई है, इससे देश में किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी. नीति आयोग ने पहले ही ग्राम समृद्धि योजना को मंजूरी दे दी है, अब प्रस्ताव को मंजूरी के लिए वित्त समिति भेजा जायेगा. योजना से जुड़ी पात्रता, सारी जानकारी प्राप्त करने के लिए इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़ें.

Gram Samridhi Yojana

नाम ग्राम समृद्धि योजना
किसने लांच की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
लाभार्थी असंगठित खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र
क्रियान्वन जल्द ही शुरू होगा
लांच हुई मार्च 2019

ग्राम समृद्धि योजना की मुख्य बातें (Gram Samridhi Yojana Features) –

  • देश में खाद्य उद्योग का विकास – भारत में खाद्य का एक बड़ा मार्किट है, जिससे देश को आर्थिक मजबूती मिलती है, लेकिन इस विभाग का अधिकतम हिस्सा असंगठित क्षेत्र में आता है. केंद्र सरकार इस परियोजना के द्वारा इन संगठनों को आवश्यक सहायता और वित्तीय अनुदान प्रदान करेगा, जिससे इस क्षेत्र में काम करने वालों का विकास होगा.
  • किसानों का विकास – योजना के अंतर्गत किसानों की आय 2022 तक दोगुनी करने का सपना पूरा करने की कोशिश की जाएगी.
  • गाँव का विकास – ये असंगठित क्षेत्र अधिकतर देश में ग्रामीण क्षेत्र में है, क्यूंकि गाँव में खाद्यान्न और सब्जियों की अच्छी उपज होती है. देश की लगभग 66% असंगठित खाद्य इकाइयाँ ग्रामीण क्षेत्रों में हैं, इनके द्वारा 80% परिवार चलते हैं. सरकार ऐसे ही लोगों की सुधि ले रहा है. योजना के अंतर्गत इन लोगों को रोजगार के अवसर दिए जायेंगें.
  • केंद्रीय सरकार ने कुटीर और लघु उद्यम को प्रोत्साहित करने के लिए ग्राम समृद्धि योजना शुरू करने का फैसला किया है ताकि स्थानीय उत्पादन, पैकेज को बढ़ावा मिल सके.
  • किसानों ने अगर लोन लिया है तो ब्याज दर में अधिकतम 10 लाख रूपए की सब्सिडी उन्हें दी जाएगी. इसके अलावा बैंक ब्याज पर 3% से 5% तक सब्सिडी देने का प्रावधान है
  • केंद्र सरकार इस योजना को क्लस्टर स्तर पर चलाने जा रही है जहां सभी खाद्य प्रसंस्करण इकाइयाँ या कोई भी व्यक्तिगत रूप से ऑनलाइन सब्सिडी के लिए आवेदन कर सकता है.
  • ग्राम समृद्धि योजना का उद्देश्य उद्यमियों को खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों की स्थापना के लिए प्रोत्साहित करना, जिससे रोजगार में वृद्धि होगी.
  • जो पहले से मौजूद इकाई हैं, उनमें नयी टेक्नोलॉजी से काम होगा, इकाइयों के प्रबंधन में सुधार और तकनीकी सहायता प्रदान की जाएगी. योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में सामान्य सुविधा केंद्र भी खोले जायेंगें.
  • योजना अभी फ़िलहाल आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब और महाराष्ट्र में ही शुरू होगी. जो अगले 5 सालों तक कार्यरत रहेगी.
  • बजट – योजना में कुल 3000 करोड़ का बजट दिया गया है. जिसमें से 1500 करोड़ वर्ल्ड बैंक द्वारा भारत सरकार को दिए जा रहे है, इसके अलावा केंद्र सरकार 1000 करोड़ एवं राज्य सरकार 500 करोड़ की मदद दे रही है.

ग्राम समृद्धि योजना योग्यता पात्रता (Gram Samridhi Yojana Eligibility Criteria)–

  • योजना का लाभ सिर्फ भारत देश के मूल निवासी को ही मिलेगा, इसके लिए उनके पास आधार कार्ड होना अनिवार्य है.
  • गाँव में चल रही खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों ही योजना के अंतर्गत लाभ देने का प्रावधान है, अतः इनके पास लाइसेंस होना अनिवार्य है.

ग्राम समृद्धि योजना आवेदन फॉर्म प्रक्रिया (Gram Samridhi Yojana Application Form Process) –

योजना के अंदर पंजीकरण की जानकारी अभी सरकार द्वारा नहीं दी गई है, इसकी जानकारी आते ही हम आपको अपने इस पेज में देंगें. मंत्रालय ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से आवेदन प्रक्रिया रख सकता है. आवेदकों को नामांकन फॉर्म भरने होंगे और इसे संबंधित कार्यालय में जमा करना होगा. फिर संबंधित राज्य विभाग पृष्ठभूमि की जांच करेगा और लाभार्थी की सूची तैयार करेगा.

भारत में पहले से ही खाद्य प्रसंस्करण का बहुत बड़ा आधार है. योजना के सफल क्रियान्वयन से यह सुनिश्चित होगा कि इस क्षेत्र का सही ढंग से विकास हो रहा है. इसके अलावा, यह न केवल कृषि मजदूरों की समग्र आय में वृद्धि करेगा, बल्कि बेहतर व्यावसायिक अवसर भी पैदा करेगा.

Other links –

Leave a Comment